YES NEWS

कोरोना कर्फ्यू कई दिन बढ़ा दिए जाने से मुसीबत, प्रयागराज में खानपान की वस्तुओं की गहराती जा रही किल्लत

पढ़ने से पहले दूसरों तक शेयर करें

पंकज सिंह ब्यूरो चीफ प्रयागराज

दुकानें बंद होने से लोगों के घरों में खाद्य और अन्य आवश्यक सामान का संकट खड़ा हो गया है।

शहर में बहुत से लोग रोज कमाने और रोज खाने वाले हैं। ऐसे में उनके द्वारा शुक्रवार रात से कोरोना कर्फ्यू लागू होने के पहले तीन दिनों की खाद्य सामग्रियों का इंतजाम कर लिया गया था। लेकिन पहले तीन दिन के बाद दो दिन कर्फ्यू और उठे दिए गए थे।

कोविद -19 की दूसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने कोरोना कर्फ्यू को बढ़ा दिया है। अब यह अगले सोमवार सुबह तक कर दिया गया है। इससे बहुत से लोगों के घरों में खाद्य और अन्य आवश्यक तत्वों का संकट खड़ा हो गया है। भोजन की वस्तुएं समाप्त होने से लोगों को मुश्किलें उठनी पड़ रही हैं। उन्हें आस-पासियों से मदद लेकर घर का खर्च चलाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

रोज़ कमाने खाने वाले जहाँ से बचना चाहते हैं

शहर में बहुत से लोग रोज कमाने और रोज खाने वाले हैं। ऐसे में उनके द्वारा शुक्रवार रात से कोरोना कर्फ्यू लागू होने के पहले तीन दिनों की खाद्य सामग्रियों का इंतजाम कर लिया गया था। लेकिन, पहले तीन दिन के बाद दो दिन कफ्र्यू और बढ़ा दिया गया था। अब इसे फिर बढ़ाकर सोमवार तक कर दिया गया है। कर्फ्यू के दौरान किराना की दुकानें भी न खुलने से लोगों को आटा, दाल, चावल, तेल, घी, ब्रेड, दूध समेत अन्य सामग्रियां भी नहीं मिल पा रही हैं। किसी मोहल्ले के गली-कोने में कोई चोरी-छिपे दुकान खोलकर सामान दे भी दिया तो उसके वह मुंहमांगा दाम वसूल रहा है।

होम डिलेवरी के लिए कहा दुकानदारों से

वहीं, प्रयाग व्यापार मंडल के अध्यक्ष विजय अरोरा का दावा है कि उनकी अपर जिलाधिकारी नगर अशोक कनौजिया से हुई बातचीत में शहर में सब्जी, चीनी व दवा की फुटकर दुकानों खुलने की बात कहीं गई है। लेकिन, जिन बाजार या क्षेत्रों में कृषि क्षेत्र बनाया गया है। दवा और दुकानों की दुकानें खुल जाती हैं, लेकिन, दुकानों पर ग्राहकों को सामान की बिक्री की अनुमति नहीं है। शुच जोन के तहत आने वाले चीनी व्यापारी केवल अपनी दुकान खोलकर ग्राहकों का आर्डर व मोबाइल नंबर लेकर होम डिलेवरी कर सकते हैं। यह नियम पिछले वर्ष कोरोना महामारी के दौरान बनाया गया था, इसी नियम को इस वर्ष भी लागू किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *