सेहरा घाट में रेत माफियाओं का बोलबाला

0Shares

*सेहरा घाट सोन नदी से हो रहा रेत का अवैध उत्खनन*
*ट्रैक्टर टाली के माध्यम से रेत की तस्करी में जुटे स्थानीय माफिया*

मानपुर विधानसभा मुख्यालय स्थित विश्व प्रसिद्ध बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व नेशनल पार्क क्षेत्र के पनपथा रेंज अंतर्गत कोर क्षेत्र जहां बाघ सहित अन्य जंगली जानवरों का विचरण बना ही रहता हैं और जीवन दयानी सोन नदी में पानी पीकर पुनः जंगल में प्रवेश कर जाते है लेकिन इन दिनो उक्त जगह पर जंगली जानवरों की जगह शाम होते ही भारी संख्या में ट्रैक्टर टाली वा लेवर मौजूद रहते हैं जिनके द्वारा पूरी रात जंगल सीमा क्षेत्र कहें या राजस्व से अवैध तरीके से रेत का उत्खनन कर परिवहन किया जाता है ऐसा भी नहीं है की वन विभाग वा राजस्व के जिम्मेदारों को माफियाओं द्वारा की जा रही खुलेआम रेत की तस्करी की जानकारी न हो बल्कि सब कुछ जानते हुए भी अच्छी खासी अवैध कमाई होने के चलते माफियाओं के ऊपर कार्यवाही करने के बजाय उन्हें खुला संरक्षण दिया जा रहा है और माफिया जिम्मेदारों का संरक्षण पा कर पूरी रात सोन नदी से रेत का अवैध तरीके से उत्खनन कर परिवहन करने में मशगुल रहते हैं

*सीमा क्षेत्र में उलझे विभाग का फायदा उठा रहे माफिया*
सूत्रों की माने तो रेत निकासी वाली जगह को कोई भी विभाग अपने में होने को नही मान रहा है राजस्व विभाग ने कहा उक्त जगह जंगल सीमा क्षेत्र में है तो मानपुर रेंज ने कहा की उक्त जगह पनपथा कोर क्षेत्र का है वहीं पनपथा वालों ने कह दिया की संबंधित क्षेत्र राजस्व का है और इसी बात का फायदा उठाते हुए रेत माफिया इन दिनो संबंधित क्षेत्र में सक्रिय हो उठे हैं जिनके द्वारा पहले सोन नदी घाट में जेसीबी मसीन के माध्यम से बकायदे रैंप बनाया गया फिर नदी के बीच में रास्ते का निर्माण कराया गया जिसके बाद ट्रैक्टर टाली के माध्यम से शाम होते ही सुबह तक बेखौफ तरीके से रेत की निकासी कराया जा रहा है सूत्रों की माने तो उक्त अवैध कार्य को भी माफियाओं द्वारा ईमानदारी से किया जा रहा है जिसमे बकायदे सहयोग कर रहे विभाग के जिम्मेदारों की खातिर दारी करने में कोई कसर नहीं छोडा जा रहा है वहीं अगर देखा जाए तो वन क्षेत्र कहें या राजस्व में खुलेआम हो रहा यह अवैध कार्य किसी से छुपा नहीं है बल्कि क्षेत्र के हर एक नागरिक को विभाग की सह पर रेत माफियाओं के कारनामे भलीभांति मालूम है

*रात में पकड़ा रेत लोड ट्रेक्टर सुबह होते ही छोड़ दिया*

सूत्रों की माने तो पनपथा कोर क्षेत्र के रेंजर द्वारा कुछ दिनों पूर्व रात करीब तीन बजे के आस पास सेहरा बीट में गस्ती के दौरान जंगल सीमा क्षेत्र सोन नदी का औचक निरीक्षण किया गया था  जिसके बाद मौके में अवैध तरीके से रेत लोड कर ट्रेक्टर टाली नदी से बाहर निकल ही रहा था तभी रेंजर ने उक्त ट्रैक्टर टाली को रोक लिया जिसके बाद मौके पर पहुंचे रेत कारोबारियों से आपस में कुछ चर्चाएं हुई और सुबह होने से पहले ही संबंधित अवैध रेत लोड ट्रेक्टर टाली को छोड़ दिया गाया हालांकि मौके पर मौजूद अन्य लोगों ने उक्त सारे कारनामे पर नजर बनाए हुए थे जिसकी जानकारी सुबह होते ही क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया इतना ही नही संबंधित ट्रैक्टर टाली के विषय में जब रेंजर से जानकारी चाही गई तो उनके द्वारा साफ शब्दों में कहा गया की जंगल गस्ती में हम गए तो थे लेकिन हमे कोई भी वाहन नही मिला हो सकता है मानपुर रेंज के लोगों द्वारा कोई कार्यवाही की गई हो

*खनिज अमला कार्यवाही से कर रहा परहेज*

सेहरा के जंगल वा राजस्व सीमा क्षेत्र स्थित सोन नदी से माफियाओं द्वारा अवैध तरीके से भारी मात्रा में रेत का उत्खनन कर परिवहन किए जाने की जानकारी स्थानीय लोगों द्वारा खनिज अमले को कई बार दी गई जिसके बाद भी विभाग हांथ पर हांथ धरे बैठा है अब पता नही कार्यवाही के नाम पर खनिज विभाग के जिम्मेदारों के क्यों पसीना छूटने लगता है कहीं ऐसा तो नहीं की संबंधित रेत माफियाओं की पहुंच खनिज कार्यालय तक बन चुकी हो जिस कारण शिकायत के बाद भी कार्यवाही नही की जा रही ऐसा भी नहीं है की खनिज अमले को मौका ए वारदात न मालूम हो बल्कि मौका निरीक्षण करने के बाद भी कार्यवाही के नाम पर विभाग की शांशें फूलने लगती है
जिले के संवेदनशील कलेक्टर वा बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के डायरेक्टर से जनापेक्षा है की संबंधित मामले को गंभीरता से लेते हुए अवैध रेत माफियाओं के प्रति संयुक्त कार्यवाही करते हुए सोन नदी पर बनाए गए रैंप को ध्वस्त किया जाए साथ ही अवैध कार्य में संलिप्त जिम्मेदारों सहित रेत माफियाओं के प्रति कार्यवाही का शिकंजा कसा जाए ताकि क्षेत्र में कानून व्यवस्था कायम रखा जा सके

*इनका कहना है*
हमारे द्वारा मौका निरीक्षण किया गया है जहां रेत कारोबारियों द्वार रैंप बना कर ट्रैक्टर टाली के माध्यम से रेत का अवैध उत्खनन कर परिवहन किया जा रहा है वह स्थान हमारे क्षेत्र से बाहर है जो राजस्व सीमा में आता है
*रमेश सिंह वनपरिक्षेत्र अधिकारी कोर पनपथा*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *